वैदिक तथा आयुर्वेदिक सिद्धान्त

आयुर्वेद ने पहचान की है कि तीन मूल सिद्धान्त जीवन को चलाते हैं। यदि इन शक्तियों में संतुलन है, या तालमेल है, जीवन प्रवाह निधि और स्वतंत्र रूप से विकसित हो सकता है। ये सिद्धान्त माइक्रोकोज्प ऑर मेक्रोकोज्य में प्रतिबंधित हैं। जिस व्यक्ति में ये शक्तियां संतुलित हैं वह पूरी तरह स्वस्थ, सक्षम और खुशहाल है।

यदि ये शक्तियां असंतुलित हो जाती है तो, बीमारी विकसित होने लगती है, प्रदर्शन गिर जाता है और उथल-पुथल मच जाती है। जहां खुशी, दु:ख का नियम होता है। समृद्धि और संतुष्टि के स्थान पर दुर्भाग्य और गरीबी होती है। लोग समृद्धि और अच्छी रहन-सहन स्थिति को बेहतर बनाने की बजाय अपने शरीर और ग्रह का नाश कर लेते हैं।

तीन गुण “प्राकृतिक शक्तियां”

पूरा ब्रह्मांड, पृथ्वी सहित, तीन मुख्य शक्तियों द्वारा चलाया और मार्गदर्शन किया जाता है। ब्रह्मा, रचनात्मक सिद्धान्त, सात्विक ऊर्जा देते हैं। सत्व की प्रकृति खुशी और रचनात्मक बुद्धि है। राजस की प्रकृति, जिसका विष्णु प्रतिनिधित्व करते हैं, जीवन की रक्षा और संरक्षित करते हैं । तमस, हालांकि, भगवान शिव संचालित करते हैं और इसका मुख्य गुण है शिव शांतम, शांति और मौन। मानव शरीर के स्तर पर सत्व को वात – “हवा और स्थान”, राजस को पित्त- “अग्नि और जल”, और तमस को कफ “जल और धरती’ में परिवर्तित किया गया है आयुर्वेद में इन शक्तियों को दोष कहा जाता है।

तीन दोष – “शारीरिक सुदृढ़ता”

वात, शरीर (ब्रह्मा और प्राण) में बुद्धि और गतिशीलता का सिद्धान्त है। यह अन्य दोनों का मार्गदर्शन करता है। पित्त, शरीर (विष्णु, ओजस और अग्नि) का मेटाबोलिक सिद्धान्त है। जो हर चीज को परिवर्तित करता है। कफ, एक सरंचनात्मक शक्ति है जो हमारे शरीर को स्थिरिता (शिव और सोम) प्रदान करती है।

प्राण, एक उत्कृष्ठ ऊर्जा है जो ब्रह्मांड में हर चीज में प्राण फुंकती है। यह जीवन की नाड़ी और श्वास है।

अग्नि,व्यक्ति में पाचन शक्ति है और वेद का पहला शब्द भी है। अग्नि पूरे शरीर को जीवन शक्ति का उपहार देती है।

तेजस एक उत्कृष्ठ ऊर्जा है जो हर चीज को परिवर्तित कर देती है और प्रबुद्धता की दिशा में ले जाती है। यह तापस्य फे साथ बहुत करीब से जुड़ी हुई है जिसका मतलब है ताप का बढ़ना।

ओजस वह कोमल ऊर्जा है जो शरीर को फलने-फूलने और चमकने के लिए हर चीज की अनुमति देता है यह सोम, कोमल रस के साथ बहुत करीब से जुड़ा है जो शरीर और ब्रह्मांड में प्रत्येक चीज को एक साथ बांधे रखता है।

व्यावहारिक उदाहरण

इस अटूट दार्शनिक और जटिल सरंचना को बेहतर ढंग से समझाने के लिए, मैं अपनी बातचीत में एक उदाहरण इस्तेमाल करना चाहता हूँ। हम तीन दोषों – वात, पित्त और कफ को उन्हें अलग-अलग प्रकार के कार इंजनों की तुलना करते हुए समझ सकते है।

वात, सौर ऊर्जा से चलने वाली इलेक्ट्रिक कार है, जो नाजुक है। हालांकि, इसकी सहन-शक्ति सीमित होती है और दोबारा ईंधन भरने के लिए गर्मी और समय की जरुरत होती है। कफ, उसका एकदम विपरीत है। यह एक डीजल मोटर है, बहुत दमदार और भरोसेमंद। यह हालांकि, धीमी और सुस्त होती है। सामान्य पित्त कार एक फरारी है, जो बहुत तेज है और शून्य से सौ तक सेकेडों में पहुंच जाती है। फिर भी, ये इंजन बहुत जल्द गर्म हो जाते है, और, इसलिए, बहुत सारी ठंडक और ईंधन की जरूरत पड़ती है। ये उदाहरण तीन दोषों को बहुत अच्छी तरह समझाते हैं और उन्हें हमारी परिचितता में मजबूती देते हैं।

आगे आप अपने प्रबल दोष प्रकार को तेजी से ढूंढ सकते हैं और इसकी पहचान करने के लिए आसानी से जांच कर सकते है, जो आपकी व्यक्तिगत मूल शारीरिक बनावट को प्रतिबिंबित करता है। निश्चित रूप से ऐसा संभव है कि आप मिश्रित प्रकार के हों । ये वात-पित्त, पित्त-कफ और वात-कफ हैं। मैं इस बात की बहुत ज्यादा सिफारिश करता हूं कि आप किसी प्रशिक्षित आयुर्वेद डॉक्टर से परामर्श लें। आपके दोष का निदान नाड़ी देखकर तय किया जावेगा।

किसी भी गलतफहमी को दूर करने के लिए, संतुलन में होने का मतलब नहीं है कि व्यक्ति में दोष में से प्रत्येक का एक-तिहाई है। इसका मतलब है कि व्यक्ति अपने शारीरिक बनावट प्रकार के अनुसार जीता है और इसीलिए व्यक्तिगत स्थिति का आपस में ताल मेल है।

आयुर्वेद में इस बात की जानकारी है कि आपकी शारीरिक बनावट के अनुसार कैसे खायें और दोषों में से किसी असंतुलन को कैसे हटाया जाय।

ज्यादातर दोष असंतुलन गलत खान-पान का नतीजा है। इन्हें सावधानीपूर्वक मुख्य रूप से ऐसी चीजों को खाने और पीने के द्वारा ठीक किया जाता है जो आपके लिए उपयुक्त हैं और साथ ही सचमुच आपको संतुष्ट करती है।